जन्म 18 जून 1882 में रोमानिया देश में हुआ था

बचपन से ही उदासीन स्वभाव का था

श्तेफ़ानिया सही से बोल नहीं पाती थी लेकिन बचपन से ही पढ़ाई में तेज होने के कारण उन्हें पढ़ाई में खूब मन लगता था

शायद इसलिए श्तेफ़ानिया ने 1910 में बुखारेस्ट विश्वविद्यालय से भौतिक और रासायनिक विज्ञान में पीएचडी की

लेकिन कुछ ही दिनों में मंत्रालय से छात्रवृत्ति अर्जित की और

रिचर्च के लिए फ्रांस चले गये वहाँ पर उन्होंने में रेडियम संस्थान में रिसर्च करने लगा

कुछ दिन रिसर्च करने के बाद भौतिक विज्ञानी मैरी क्यूरी संरक्षण में काम किया

श्तेफ़ानिया मॉरेचिनानू का मृत्यु सन 1994 में 62 साल के उम्र में हुआ था

मृत्यु का कारण पता नहीं चला लेकिन कहा जा रहा है की श्तेफ़ानिया की मृत्यु रोमानिया की प्रयोगशाला में हुआ

श्तेफ़ानिया मॉरेचिनानू एक महान भौतकी और केमिस्ट्री के महान साइंटिस्ट वैज्ञानिक थी